12 दिन से बंद सर्राफा बाजार

प्रणव मुखर्जी के तेवर ढीले होने का नाम नहीं ले रहे और देशभर के कारोबारियों ने भी केन्‍द्र सरकार के खिलाफ लम्‍बा मोर्चा खोल दिया है। सोने के आयात शुल्क में बढ़ोतरी और स्वर्णाभूषणों पर एक फीसदी एक्साइज ड्यूटी के विरोध में सर्राफा व्यापारियों का देश व्यापी आंदोलन अनशन में तब्दील हो चुका है। बुधवार को जयपुर शहर के 25 जौहरी भूख हड़ताल पर बैठे। सर्राफ ट्रेडर्स कमेटी ने एलान किया है कि जब तक एक्साइज ड्यूटी नहीं हटेगी तब तक प्रदेशभर के व्यापारी अपना कारोबार बंद रखेंगे। बड़ी चौपड़ पर सर्राफा कारोबारियों का धरना बारहवें दिन भी जारी रहा। एक्साइज ड्यूटी लगाने के विरोध में भूख हड़ताल का दौर शुरू हो गया है। बड़ी चौपड़ पर कैलाश मित्तल और सतीश खाटूवाला के नेतृत्व में सर्राफा व्यापारियों का अनशन शुरू हुआ। एक दिन पहले छोटी चौपड़ और झालानियों का रास्ता इकाई के अध्यक्ष मनीष खूंटेटा और पवन अटोलिया के नेतृत्व में सवा सौ व्यापारियों ने भूख हड़ताल की। गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा एक्साइज ड्यूटी थोपे जाने से सर्राफा व्यापारी और स्वर्णकार परेशान हैं। सर्राफा और सोने के कारोबार से जुड़े लोगों ने अपने प्रतिष्ठान बंद कर रखे हैं। लोगों को जेवरात नहीं मिलने से भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।

Advertisements