हम बने तुम बने एक दूजे के लिए

Posted by

ये गीत भले ही बहुत पुराना हो लेकिन प्रासंगिक है। वैसे तो हमारे समाज में किसी भी रोग से ग्रसित लोगों को हेय दृष्टि से देखा जाता है लेकिन विल पावर मजबूत हो तो आदमी नकारात्मक पहलू को भी सकरात्मक ऊर्जा में बदलने में देर नहीं लगाता। ऐसी ही मिसाल दी है घनश्याम और सीमा ने। ये दोनों एचआईवी पोजेटिव हैं। ऐसे हजारों लोग हैं जो एचआईवी पीड़ित हैं और समाज से खुद को छिपाते हैं। लेकिन यह छिपने वालों में से नहीं बल्कि दुनिया के सामने आकर मिसाल कायम करने वालों में से हैं। इन दोनों ने कुछ दिन पहले एक संवाददाता सम्मेलन कर समाज को बताया कि हम एचआईवी पोजेटिव हैं। दोनों ने शादी करने की ठानी। रविवार को यह जोड़ा विवाह बंधन में बंध गया। इनके जद्गबे को सलाम।

Advertisements