सचिवालय में लग गई लम्‍बी कतारें

जिस दिन से सचिवालय में हाईटेक अटेंडनेंस सिस्‍टम लगाया गया था  उसी दिन से कर्मचारी इस फिराक में थे कि कब मशीन खराब हो कब वे इसका मजा लें। अप्रेल माह के पहले वर्किंग डे पर ही उन्‍हें यह नजारा देखने को मिल गया। सचिवालय में सोमवार को पहले ही दिन बायोमैट्रिक उपस्थिति व्यवस्था फेल हो गई। सर्वर डाउन होने से बायोमैट्रिक मशीनों पर अफसरों की लंबी कतारें लग गईं। हाजिरी करने के लिए अधिकारियों को काफी देर तक इंतजार करना पड़ा। सचिवालय में राजपत्रित अधिकारियों के लिए सोमवार से ही बायोमैट्रिक उपस्थिति वाली व्यवस्था लागू की गई है। इससे पहले केवल वित्त विभाग के अधिकारी ही इस सिस्टम का उपयोग कर रहे थे। सुबह करीब 9.30 बजे जब अधिकारी सचिवालय आने लगे तो मशीनों पर उपस्थिति दर्ज करने वालों का लोड बढ़ गया। इससे करीब 15 मिनट बाद ही मशीनें बंद हो गईं। बाद में अधिकारियों ने अपने-अपने विभागों में जाकर उपस्थिति रजिस्टर में हाजिरी लगाई। नई व्यवस्था होने के कारण कुछ दिन तक उपस्थिति दर्ज करने के लिए बायोमैट्रिक और मैन्युअल दोनों ही तरीके से हाजिरी दर्ज करने की व्यवस्था रखी गई है। राजस्थान सचिवालय कर्मचारी संघ बायोमैट्रिक व्यवस्था का पहले से ही विरोध कर रहा है। संघ के महामंत्री शिवशंकर अग्रवाल का कहना है कि संघ के लोगों ने गत गुरुवार को भी कार्मिक विभाग के प्रमुख सचिव से मिलकर इस व्यवस्था पर अपना विरोध दर्ज कराया था। इस सिलसिले में मुख्य सचिव से मिलने का भी कार्यक्रम है।