किसानों ने ललकारा

Posted by
केन्द्र व राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों से तंग आकर आखिर कर किसानों को किसान महापंचायत के बैनर तले सडकों पर आना ही पडा। बुधवार को किसानों का हुजूम विधानसभा घेराव के लिए बढा। किसानों की विभिन्ना मांगों और न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने को लेकर विधानसभा पर प्रदर्शन करने जा रहे किसानों को अशोक मार्ग पर ही रोक दिया गया। स्थानीय पुलिस और एसटीएफ के भारी जाते ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को आगे नहीं जाने दिया। किसान महापंचायत के बैनर तले किसान विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करने जा रहे थे। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सुमित्रा सिंह भी किसानों के साथ थीं। सुमित्रा सिंह ने किसानों को विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करने से रोकने पर चुटकी लेते हुए कहा कि विधानसभा के अंदर सदन की गरिमा भंग हो रही है, तो ऐसे में विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करने से यों रोका जा रहा है। उधर रामपाल जाट ने सरकार के मंत्री और विधायकों के खिलाफ प्रदेशभर में मोर्चा खोलने की चेतावनी दी। उन्होंने किसानों की मांग नहीं माने जाने पर विधायकों और मंत्रियों के कार्यक्रमों का बहिष्कार करने की चेतावनी दी है।
Advertisements