शिक्षकों को लगी चपत

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राज्य के हजारों शिक्षकों का हक मार रहा है। बोर्ड की नीतियों के चलते इस साल भी बोर्ड से जुड़े अध्यापकों को हजारों रूपयों की चपत लगने को है। दसवीं और बारहवीं बोर्ड की परीक्षाएं खत्म होने के बाद राजस्थान बोर्ड से ताल्लुक रखने वाले अध्यापकों ने कॉपियों तो चैक कर दी हैं, लेकिन सीबीएसई बोर्ड से ताल्लुक रखने वाले अध्यापकों की तुलना में मिलने वाले कम मेहनताने को लेकर शिक्षक परेशान हैं। इस बारे में शिक्षक संगठनों ने बोर्ड को लिखा भी है, लेकिन बोर्ड इस पर विचार करने के मूड़ में नहीं दिख रहा है। जबकि इस बार माध्यमिक शिक्षा विभाग अपनी कक्षाओं में सीबीएसई पैटर्न की पुस्तकें और परीक्षा पैटर्न भी सीबीएसई की तरह ही करने पर तैयारी कर रहा है। दसवीं और बारहवीं के पैसे की पूरी गणित: इस समय राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड दसवीं बोर्ड की कॉपियां चैक करने पर प्रति कॉपी नौ रूपए देता है और बारहवीं बोर्ड की कॉपियां चैक करने पर प्रति कॉपी दस रूपए देता है। इस साल राजस्थान बोर्ड की परीक्षाओं में 17 लाख से भी ज्यादा स्टूडेंट बैठे हैं। इनमें दसवीं और बारहवीं के छात्र शामिल हैं। 17 लाख से भी ज्यादा कॉपियां चैक करने का मेहनताना राजस्थान बोर्ड के अनुसार करीब साढ़े सोलह करोड़ रूपए बनता है। जबकि सीबीएसई बोर्ड से ताल्लुक रखने वाले अध्यापकों को राजस्थान बोर्ड की तुलना में दसवीं कक्षा की कॉपियां चैक करने की एवज में 12 रूपए मेहनताना और बारहवीं बोर्ड की कॉपियां चैक करने की एवज में 16 रूपए मेहनताना दिया जाता है। जो करीब आधे से भी ज्यादा है।

Advertisements