फिर निकली निगम की हवा

निगम भगवान भरोसे है। वित्तीय हालत ऐसी ही कि कर्मचारियों को तनख्वाह देने तक का बजट नहीं है और अभियानों की हालत ये है कि न तैयारी न ही कोई प्लानिंग। परकोटे के बाजारों से अतिक्रमण हटाने के लिए शुरू किया नगर निगम का अभियान दम तोड़ने लगा है। फुटकर व्यापारियों का पुनर्वास नहीं हो पाने के कारण निगम प्रशासन महज समझाइश के जरिए अतिक्रमण हटवा रहा है, लेकिन उसका कोई खास असर अब तक दिखाई नहीं दिया। यही कारण है कि जो व्यापार मंडल इस मुहिम में निगम के साथ थे वे भी अब इससे दूर हो रहे हैं। स्थानीय व्यापार मण्डल पदाधिकारियों का आरोप है कि निगम की अधूरी तैयारी के साथ अभियान चला रहा है |

Advertisements