चौधरी के खिलाफ सख्‍त हुआ रोडवेज प्रशासन

सिंधी कैंप बस स्टैंड के पूर्व चीफ मैनेजर नरेंद्र चौधरी के खिलाफ रोडवेज प्रशासन ने आम लोगों से भ्रष्टाचार के सबूत मांगे हैं। रोडवेज मुख्यालय ने उनके खिलाफ तीन मामलों में जांच शुरू की है। चौधरी के खिलाफ सबूत देने या बयान देने के लिए रोडवेज ने लोगों को 18 मई तक का समय दिया है। इस मामले की जांच रोडवेज के उपमहाप्रबंधक (प्रशासन) सत्यपाल कर रहे हैं। जांच में तीन बिंदुओं को शामिल किया गया है। इसमें होटल आबंटन प्रकरण, पत्रकारों के साथ हुई मारपीट और इस दौरान चर्चा में आई रिश्वत मांगने से संबंधित ऑडियो क्लिपिंग की भी जांच होगी। जांच अधिकारी के मुताबिक इन मामलों से संबंधित कोई भी व्यक्ति अपने बयान, सबूत, दस्तावेज आदि देना चाहे तो वह रोडवेज मुख्यालय के कमरा नंबर 15 में कार्यालय समय में 18 मई तक संपर्क कर सकता है। गौरतलब है कि 5 मई को सिंधी कैंप बस स्टैंड पर एक होटल को जबरन खाली करा रहे यहां के तत्कालीन चीफ मैनेजर नरेंद्र चौधरी ने कवरेज करने आए पत्रकारों के साथ मारपीट की थी। पत्रकारों को बचाने पहुंचे सिंधी कैंप थाने के इंचार्ज से भी उन्होंने धक्कामुक्की की थी।