जयपुर की शान में चार चाँद लगाते मॉल्स

जयपुर मॉल्स
Jaipur Malls

Jaipur-Malls

बढ़ती आबादी और लोगों की आवश्यकतओं को ध्यान में रखते हुए जयपुर शहर में ऐसी जगहों की व्यवस्था की गई है। जहाँ व्यक्ति अपनी सुविधा, समय और आवश्यकता के अनुसार अपनी पसन्द से चीजों को खरीद सकें। इन सभी के लिए जयपुर शहर में मॉल्स बनाये गये है। जहाँ एक ही स्थान पर सभी चीजें एक साथ व्यक्ति को आसानी से उपलब्ध हो जाती है। इसके लिए व्यक्ति को कहीं इधर-उधर जाना नहीं पड़ता। इससे समय की बचत हो जाती है। वाहनों को जगह-जगह खड़ा नहीं करना पड़ता। इससे पेट्रोल की बचत हो जाती है। एक  साथ सामान खरीदने पर कुछ डिस्काउन्ट भी प्राप्त हो जाता है। कई नयी चीजें देखनें को मिलती है। कई वैराइटी देखने को मिलती है। बच्चों का मनोरंजन भी हो जाता है। जयपुर में कई ऐसे बड़े प्रसिद्ध मॉल्स बनाये गये है। जिनमें प्रमुख है – गोविन्द मार्ग स्थित पिंक स्क्वॉयर मॉल्स, गौरव टॉवर, टोंक रोड़ स्थित बिग बाजार, क्रिस्टल कोड, इन सभी में व्यक्ति को सुविधानुसार कपड़े, ज्वैलरी, क्रॉकरी, खाद्य-सामग्री, शाक-सब्जी, फुटवियर्स, टॉयस, स्टेशनरी, आदि। सामान आसानी से प्राप्त हो जाता है। एक ही जगह सभी सामान मिल जाने से व्यक्ति को काफी फायदा होता है। समय बच जाता है। उसी समय में व्यक्ति कई दूसरे काम कर सकता है। बच्चों के मनोरंजन के लिए मॉल्स में सिनेमा का प्रबन्ध भी होता है। जहाँ बच्चे मनोरंजन कर सकते है। आइसक्रीम, गेम्स आदि का आनन्द उठा सकते है। कपड़ों में कई कम्पनियों की वैराइटी उपलब्ध हो जाती है। जिसमें काफी डिस्काउन्ट भी मिल जाता है। इससे व्यक्ति को कई कम्पनियों की जानकारी भी मिल जाती है। ज्वैलरी में नयी (लेटेस्ट) ज्वैलरी के डिजाइन मिल जाते है। जो कई रंगों में डिजाइनों में मिल जाती है। फुटवियर्स में तरह-तरह के फुटवियर्स मिल जाते है और सभी कम्पनियों के अलग-अलग रेट में मिल जाते है। व्यक्ति जैसा चाहे वैसा फुटवियर खरीद सकता है। हल्का महंगा सभी मिल जाता है। इन दिनों गर्मियों के अनुसार हल्के फुटवियर्स जो पैरों को आराम दे विभिन्न रंगों में मिल रहते है। जैसे – नीला, पीला औरेंज इन दिनों ये तीनो रंग का अधिक प्रचलन है।

यही कपड़ो की अलग-अलग दुकानें होती है। जहाँ बच्चों का अलग, लड़कियों का अलग, व पुरूशो का अलग डिपार्टमेन्ट होता है। यहाँ सभी चीजें एक साथ लगी होती है। व्यक्ति को किसी से कुछ पूछना नही पड़ता। रेट आदि सभी लेबल पर लगे होते है। बस चीज पंसद करों, और काउन्टर पर दिखाकर पैसा जमा कराओ, और चीज ले जाओ। इससे व्यक्ति को काफी चीजो के रेट का अनुभव हो जाता है। और वह ठगने से भी बच जाता है। क्योंकि व्यक्ति स्वंय पंसन्दानुसार रेट देखकर सोच समझ कर चीज खरीदता है। कोई जबरदस्ती नही करता, कोई आवाज लगाकर नही बुलाता है। व्यक्ति को इससे फायदा होता है।

क्राकरी  में भी नयी-नयी क्राकरी जो प्रचलन में होती हैं। यहाँ आसानी से मिल जाती है। काँच में, प्लास्टिक में, बॉनचायना में, सभी वैरायटी यहाँ मिल जाती है। कई चीजो में एक के साथ एक चीज मुफ्त मिल जाती है। किसी में डिस्काउट मिल जाता है। कुछ विशेष अवसरो में यहाँ सेल भी लगाई जाती है। जिसमें ग्राहको को काफी फायदा होता है। लोग ऐसे अवसरो का भरपूर फायदा उठाते है।

मनोरंजन  में भी फायदा होता है। सामान खरीदने पर कई बार कूपन भी मिलते है। सिनेमा की टिकिट भी कम दाम पर मिल जाती है। जैसे 120 वाली 60 रू. में, कूपन मिलने पर फायदा होता है। जिससे अगली बार की खरीद पर फायदा हो जाता है। कुल मिलाकर मॉल्स के बनने पर कई फायदे हुए है। जयपुर शहर में मॉल्स के बनने से जयपुर विश्व के बड़े नगरों में गिना जाने लगा है। इसका बड़ा फायदा बाहर से आने वाले लोगो को है। उन्हें इधर-उधर भटकना नही पड़ता है। बस मॉल्स की जानकारी लेने पर उसके नाम से वहाँ पँहुचकार खरीददारी कर सकते है। यँहा लिफ्ट की सुविधा भी होती है। जिससे चलने में भी आराम रहता है। और 1 सैकण्ड में 1 से 4 फ्लोर में पहुँच जाते है। पार्किंग की भी विशेष सुविधा होती है। जहाँ एक गार्ड तैनात रहता है। जो गाडि़यों का ध्यान रखता है। अब जयपुर शहर महानगर की श्रेणी में आकर मेट्रो जयपुर कहलाने लगा है। आने वाले वर्ष में गुलाबी नगरवासी मेट्रो सुविधा का लाभ उठा पायेगे। जयपुर की शान में एक ओर चार चाँद लग जायेगा।