राजस्थान यूनिवर्सिटी में टीसर्च का धरना

Posted by

यूनिवर्सिटी में एक और वैष्‍णव जन तो तैने कहिए गूंज रहा था दूसरी ओर टीसर्च का धरना चल रहा था। ऑल राजस्थान यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन के बैनर तले मंगलवार को राजस्थान यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने सेवानिवृति आयु बढ़ाने सहित कई मुद्दों पर यूनिवर्सिटी में धरना दिया और उपहास पर रहे। इस धरने में प्रोफेसर्स, एसोसिएट प्रोफेसर्स और अस्सिटेंट प्रोफेसर्स शामिल हुए। एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ.बीडी.रावत ने बताया कि यूजीसी के नियम अनुसार यूनिवर्सिटी और हायर एजुकेशन से जुड़े शिक्षकों की रिटायरमेंट आयु 65 होनी चाहिए। राजस्थान यूनिवर्सिटी सहित कुछ यूनिवर्सिटी में 60 वर्ष है, जबकि कुछ यूनिवर्सिटीज में 65 है। इसके अलावा राजस्थान यूनिवर्सिटी में कई शिक्षकों के परमोशन्स भी रुके हुए है। मांगे नहीं मानी तो नई दिल्ली में पड़ाव करेंगे: प्रो.जे.पी.शर्मा और प्रो.डी.पी. जारौली ने बताया कि यूनिवर्सिटी शिक्षकों की समस्याओं का निराकरण 15 अक्टूबर तक नहीं हुआ तो शिक्षक नई दिल्ली में जाकर पड़ाव डालेंगे और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से समस्याओं के निराकरण की मांग करेंगे। शिक्षकों की रिटायरमेंट आयु बढऩे से मिलेगा छात्रों को फायदा: राजस्थान यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर्स का कहना है कि यहां पर रिटायरमेंट आयु 60 है और पड़ोसी राज्यों की यूनिवर्सिटी में 65 है। ऐसे में कई शिक्षकों ने पलायन कर लिया है। शेष शिक्षक अगर रिटायर होते है तो 2014 तक यूनिवर्सिटी में केवल पांच- छह प्रोफेसर्स ही बचेंगे। ऐसे में छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी

Advertisements