जननी एक्‍सप्रेस सेवा शुरु

एक साल पहले दो अक्‍टूबर के ही दिन प्रदेश में आईएएस समित शर्मा के प्रयासों से निशुल्‍क दवा योजना शुरु हुई थी। अब नई शुरुआत की गई है। ग्रामीण क्षेत्रों की प्रसूताओं के लिए एम्‍बूलेंस सेवा शुरु की गई है। प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में जल्द ही मरीजों के टेस्ट भी फ्री होंगे। राज्य सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि इस योजना को संभव बनाने के लिए विभिन्न स्तरों पर इसका परीक्षण करवाया जाएगा। इसके अलावा निशुल्क दवाओं की संख्या 400 से बढ़ाकर 600 की जाएगी। गहलोत ने मंगलवार को मुख्यमंत्री निशुल्क दवा वितरण योजना का एक साल पूरा होने पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि निशुल्क दवा योजना प्रदेश में प्रभावी रूप से लागू हुई है। बड़ी योजना के कारण कहीं-कहीं खामियां रही हैं, लेकिन इन्हें लगातार दूर किया जा रहा है। गहलोत ने कहा कि तीन प्रतिशत आबादी गरीबी रेखा से नीचे इसलिए रही है कि उसका पैसा इलाज में खर्च हो जाता था। समारोह में मुख्यमंत्री ने सेवारत चिकित्सकों के लिए स्टेंडर्ड ट्रीटमेंट गाइडलाइन का विमोचन किया। यह सभी डॉक्टरों को मुहैया कराई जाएगी। इसमें राज्य में बहुतायत होने वाली बीमारियों, उनके इलाज के तरीकों सहित अन्य प्रकार की जानकारियां दी गई हैं। गहलोत ने दवा वितरण केंद्रों के कंप्यूटरीकरण, हैल्पलाइन सुविधा की भी शुरूआत की।

Advertisements