सेवा में लिया जाएगा विद्यार्थी मित्रों को

तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के बाद हटाए गए 6,000 विद्यार्थी मित्रों को अब फिर से सेवा में लिया जाएगा। हटाए गए विद्यार्थी मित्रों को उसी जिले में खाली स्थानों पर उसी विषय को पढ़ाने के लिए लगाया जाएगा, जो वे पहले पढ़ाते आए थे। शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव वीनू गुप्ता ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के अनुसार व्याख्याता और वरिष्ठ अध्यापकों के स्थान पर लगाए गए विद्यार्थी मित्रों को विषयवार रिक्तियों के हिसाब से वापस लगाने को कहा है।प्रमुख सचिव ने प्रारंभिक, माध्यमिक और संस्कृत शिक्षा निदेशकों को आदेश दिए हैं जिस स्कूल में आरपीएससी से चयनित शिक्षक लगा दिए गए हैं, उनकी जगह से हटाए गए विद्यार्थी मित्रों को जिले में खाली समतुल्य पदों पर लगाया जाए। इन आदेशों की कठोरता से पालना करने को कहा है। विद्यार्थी मित्रों ने किया था आंदोलन तृतीय श्रेणी भर्ती के बाद विद्यार्थी मित्रों को हटाने के खिलाफ कई दिन से आंदोलन चल रहा था। विद्यार्थी मित्रों ने विधानसभा पर प्रदर्शन किया था और रात में वहीं पर पड़ाव भी डाल दिया था। विद्यार्थी मित्रों को हटाने से रोक को इस आंदोलन की सफलता से जोड़कर देखा जा रहा है। अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ एकीकृत ने सरकार के फैसले का स्वागत किया है।

Advertisements