जेडीए का शहर को दीवाली गिफ्ट

-दो बड़ी परियोजनाएं पूर्ण
-आगरा टनल और रामनिवास बाग पार्किंग कार्य पूरा

जेडीए ने जयपुर शहर को दो बड़ी और बहुप्रतीक्षित परियोजनाओं का कार्य समय पर पूरा करते हुए दीवाली की सौगात दी है। नवम्बर के पहले सप्ताह तक आगरा टनल और रामनिवास बाग पार्किंग का कार्य पूर्ण हो चुका है।

फायदा-
दोनो ही परियोजनाओं से जयपुर शहर के यातायात को बड़ी राहत मिलेगी। परकोटा क्षेत्र में सिरदर्द बनती जा रही पार्किंग समस्या को जहां रामनिवास बाग में बने दो मंजिला पार्किंग स्थल से राहत मिलेगी वहीं आगरा जाने के लिए घाट की गूणी से लगने वाले जाम से भी निजात मिल जाएगी।
शहर की दो बड़ी परियोजनाएं पूरी होने से जयपुर की जनता को दीवाली का उपहार मिला है। जयपुर की खूबसूरती और यातायात के भार को कम करने में ये योजनाएं बड़ी महत्वपूर्ण  साबित होंगी।

खूब चला बुलडोजर-
नवम्बर की पहली सुबह ट्रांसपोर्ट नगर चौराहा पर जेसीबी का धूम-धड़ाका लेकर आई। अभियान की शुरूआत 49 मकानों को ध्वस्त कर टनल की राह खोलकर की गई। अभियान में ट्रांसपोर्टनगर पुलिया के दोनो ओर बने मकानों पर दर्जनभर से ज्यादा बुलडोजर्स ने 14 घंटे कार्रवाई की। जवाहरनगर जाने वाले रास्ते पर सड़क को चौड़ा करने के लिए इमारतों को धूल-धूसरित किया गया। आगरा टनल को शुरू करने के लिए यह जेडीन का अतिक्रमण हटाओ अभियान था और इसे पूरी शिद्दत के साथ शुरू किया गया। सुरंग का कार्य पूर्ण होने को है। इसमें जेट फैन, कैमरे, कंट्रोल रूम, लाईटें, फायर फाइटिंग सिस्टम, टोल प्लाजा और सेंसर लगाने के कार्य पूर्ण हो गए हैं। रोड के दोनो ओर सौ सौ फीट सड़क को चौड़ी करने का कार्य भी प्रगति पर है। वहां स्थित पेट्रोल पंप को भी स्थानांतरित किया जा रहा है। इसी क्रम में जगतपुरा रोड तिराहे पर सर्किल बनाना भी प्रस्तावित है ताकि आगरा की ओर, जगतपुरा की ओर और गोनेर की ओर यातायात सुगमता से जा सके। अतिक्रमण की कार्रवाई से नायकों का टीबा सहित आसपास की बस्तियों का विरोध जारी है।

जेडीए आयुक्त कुलदीप राकां ने समय समय पर प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया और लोगों से सुझाव लिए।
रामनिवास बाग स्थित दो मंजिला पार्किंग स्थल तक यातायात के सुगमता से पहुंचने के लिए एमआई रोड की तरफ जाने वाले  रास्ते का सीसीकरण आरंभ किया गया। क्षेत्र की हरियाली को बनाए रखने के उपाय भी साथ ही किए गए, पार्किंग से निकलने के लिए दस जगह सीढि़यां बनाई गई और पार्किंग को जयपुर के हैरिटेज का लुक दिया जा रहा है। रामलीला मैदान को  भी रामनिवास बाग से अंडरग्राउंड जोडने की योजना है।
इस दो मंजिला विशाल पार्किंग स्थल की रूपरेखा जयपुर ओल्ड सिटी में यातायात का दबाव कम करने के लिए तैयार की गई  थी। पार्किंग स्थल में एक हजार से ज्यादा कारें खड़ी की जा सकती हैं।

पार्किंग और टनल यातायात शीघ्र आरंभ करने के साथ साथ जेडीए अब फिनिशिंग के कार्य में लगा है और जल्द से जल्द कार्य निबटा कर जयपुर की खूबसूरती को दो और खूबसूरत तोहफे नवाजने का अथक श्रम कर रहा है।

Advertisements