जयपुर लिटरेचर फेस्टीवल-6

जयपुर के डिग्गी पैलेस में साहित्यकारों का महाकुंभ ’लिटरेचर फेस्टीवल’ आरंभ होगा। इसी के साथ शहर साहित्य की खुशबू और खुमारी से महक उठेगा। किस्से कहानियों के दौर चलेंगे और कविताओं का रसपान किया जाएगा। इस महाकुंभ में दुनियाभर के साहित्यकार जुटे हैं। पांच दिन चलने वाले इस आयोजन का आगाज 24 जनवरी को जानी मानी लेखिका महाश्वेता देवी के संबोधन से होगा।

24 जनवरी-
साहित्य महाकुंभ का यह पहला दिन होगा। समारोह की शुरूआत महाश्वेता देवी के संबोधन से होगा। सभी की नजर ’किनशिप्स ऑफ फेथ्स-फाइंडिंग द मिडल वे’ सैशन पर होगी जिसमें लेखक पिको अय्यर धर्मगुरू दलाईलामा से बातचीत करेंगे। इसके कई साहित्यिक चर्चाएं होंगी जिनमें शर्मिला टैगोर, जावेद अख्तर, शशि थरूर, तरूण तेजपाल जैसी हस्तियां शामिल होंगी।
दोपहर 12.30 से 1.30, मुगल टेंट

दोपहर 2.15 से 3.15 फ्रंट लॉन
सत्र-’किनशिप्स ऑफ फेथ्स-फाइंडिंग द मिडल वे’ सत्र में धर्मगुरू दलाई लामा से लेखक पिको अय्यर बातचीत करेंगे
अपरान्ह 3.30 से 4.30, फ्रंट लॉन
सत्र- ’रिमेंबरिंग सुनील दा’ में साहित्यकार सुनील गंगोपाध्याय को याद किया जाएगा। इस सत्र में शर्मिला टैगोर, अरूणा चक्रवर्ती, अरूणव सिन्हा और अमित चौधरी आदि हिस्सा लेंगे।
अपरान्ह 3.30 से 4.30, बैठक
सत्र-इनसाईड द गेम, आउटसाइड द गेम सत्र में शशि थरूर और तरूण तेजपाल हिस्सेदारी करेंगे।

इन हस्तियों पर होगी नजर-
इस बार के साहित्य महाकुंभ में धर्मगुरू दलाई लामा, लेखिका महाश्वेता देवी, सितांशु यशचंद्र, जावेद अख्तर, शबाना आजमी, शर्मिला टैगोर, शशि थरूर, शोभा डे और हास्य व्यंग्यकार अशोक चक्रधर पर सबकी नजर रहेगी।
इन सेशंस पर रहेगी नजर-

24 जनवरी- पहले दिन दोपहर 2.15 से 3.15 तक मुगल टेंट में होने वाले सत्र द इनोसेंस जनियस-रामानुजन एवं ए लाइफ इन मैथमेटिक्स, दोपहर 3.30 से 4.30 तक फ्रंट लॉन में सेशन रिमेंबरिंग सुनील दा पर साहित्यप्रेमियों की नजर होगी।

25 जनवरी- समारोह के दूसरे दिन 25 जनवरी को दोपहर 12.30 से 1.30 तक बैठक में होने वाले सेशन जोरासनको-द टैगोर विमन, दोपहर 2.15 से 3.15 तक चार बाग में सेशन वाट इज ए गजल फार्म, स्ट्रेक्चर, स्पिरिट, शाम 3.30 से 4.30 तक फं्रट लॉन में सेशन सेक्स एंड सेंसिबिलिटी-वीमन इन सिनेमा पर सभी की नजर होगी।

26 जनवरी- शनिवार का दिन और गणतंत्रदिवस अवकाश होने के कारण डिग्गी पैलेस में इसदिन जयपुराईट्स और साहित्यप्रेमियों का सैलाब उमड़ सकता है। इस दिन शाम को 5 से 6 फ्रंट लॉन में सेशन ’ए सेरोगेट लाईफ’, शाम 6 से 7 बैठक में ’नई कहानी-न्यू स्टॉरी फोर ओल्ड’ सेशन पर सभी की नजर होगी।

27 जनवरी- रविवार के अवकाश के कारण इस दिन साहित्यप्रेमियों का ट्रैफिक चरम पर हो सकता है। इस दिन सुबह 11.15 से 12.15 तक बैठक में ’द एडवेंचर्स ऑफ अमीर हमजा-दास्तां ए हमजा’ सेशन, शाम 5 से 6 तक मुगल टेंट में ’द एपिक इमेजिनेशन’ सेशन पर साहित्यप्रेमियों की खास नजर होगी।

28 जनवरी- साहित्य के महाकुंभ का आखिरी दिन होगा। यहां दोपहर 2.15 से 3.15 तक मुगल टेंट में ’महानगर- राइटिंग द मेग्लोपोलिस’ सेशन पर खास नजर रहेगी।

आगाज से पहले विवाद-
जयपुर लिटरेचर फेस्टीवल आगाज से पहले ही विवादों में फंसता नजर आ रहा है। विगत फेस्ट में सलमान रूश्दी को लेकर बचे बवाल से मुस्लिम संगठन पहले से सतर्क हैं और जेएलएफ में किसी भी विवादित साहित्सकार को बर्दाश्त करने के मूड में नहीं हैं। बुधवार को कई मुस्लिम संगठन कमिश्नर बी एल सोनी से मिले और ज्ञापन सौंपा। उन्होंने उन विवादित लेखकों के नाम भी दिए जिन्होंने पिछले साल सलमान रूशदी की विवादित पुस्तक सैटेनिक वर्सेज के अंश पढ़े थे। इन संगठनों ने जेएलएफ में सलमान रूश्दी और तसलीमा नसरीन के आने पर रोक लगाने की मांग की है। इन संगठनों ने धमकी दी है कि कोई भी विवादित साहित्यकार आया तो वे प्रदर्शन करेंगे। उधर, कमिश्नर सोनी ने सुरक्षा और यातायात की पर्याप्त व्यवस्था का विश्वास दिलाते हुए प्रदर्शनकारियों से सख्ती से निबटने का ऐलान किया है।

ये है सुरक्षा-
जेएलएफ की सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस कमिश्नर ने चार थानों की पुलिसऔर अधिकारियों को डिग्गी पैलेस के आसपास निगरानी में लगाया है। यदि किसी तरह का विरोध प्रदर्शन होता है तो उससे निबटने के लिए विशेष दस्ता होगा। इस दस्ते में सौ से अधिक पुलिसकर्मी होंगे।

ये रहेगा यातायात-
रामबाग से अजमेरी गेट जाने वाले यातायात को पृथ्वीराज टी प्वाइंट से निकाला जाएगा। एसएमएस से यादगार आने वाले वाहनों को सूचना केंद्र के सामने से आरोग्य पथ होकर व यादगार से टोंक रोड वाले वाहनों को अशोका टी प्वाइंट से जय क्लब होकर निकाला जाएगा। फेस्टीवल में आने वाले वाहन महाराजा व महारानी कॉलेज, गोखले हॉस्टल व रामनिवास बाग में पार्क किए जाएंगे।