कलानेरी आर्ट गैलरी

kalaneri-art-gallery

जयपुर कलाओं का शहर है। यहां की गलियां, बाजार, घर, हवेलियां, संस्कृति और खानपान सब कलात्मक लगता है। ऐसे शहर में कला की परख और कला को सही सम्मान देने के अनेक मंच हैं। इन्हीं मंचों में से एक है कलानेरी आर्ट गैलरी। इस आधुनिक कला गैलरी में युवाओं को भरपूर प्रोत्साहन दिया जाता है। साथ ही नामचीन हस्तियों की पेंटिंग्स का संग्रहण, युवाओं की पेंटिंग को अच्छा मूल्य दिलाना आदि भी इस गैलरी की विशेषताएं हैं।

पता

जलधारा के पास,
जेएलएन मार्ग
जयपुर, राजस्थान।

स्थापना और उद्देश्य

कलानेरी आर्ट गैलरी की स्थापना 2009 में की गई। कला को समर्पित इस आर्ट गैलरी में आधुनिक और समकालीन कलाओं और कलाकारों का स्वागत किया गया। स्थापना के बाद बहुत ही कम समय में कलानेरी ने आधुनिक और समकालीन चित्रकला के हुनरमंदों का काम व्यापक पैमाने पर जनता तक पहुंचा दिया। वर्तमान में कलानेरी आधुनिक और परंपरागत चितेरों का गढ़ बन चुका है।

भवन और भव्यता

कलानेरी आर्ट गैलरी जेएएलमार्ग पर जलधारा के निकट बहुत बड़े भूभाग में बनी कला गैलरी  है। जयपुर का यह सबसे पॉश इलाका है। इसमें इलाके में जलधारा के अलावा शिक्षा संकुल, विद्याश्रम स्कूल, ओटीएस, दैनिक भास्कर कार्यालय, कैंसर हॉस्पिटल और सरस डेयरी शामिल है। कलानेरी का भव्य भवन 4000 वर्ग फीट में बना हुआ है। यह पूरी तरह से वातानुकूलित है जबकि 6000 वर्ग फीट भाग खुला है।

कार्य और कार्यक्रम

कलानेरी आर्ट गैलरी में कलाकारों के लिए कैनवास, विविध रंग और स्थानीय तथा बाहरी कलाकारों द्वारा बनाई ग्राफिक्स की विशाल रेंज उपलब्ध है। कई एकल व सामूहिक संगठनों ने यहां सफलतापूर्वक कार्यक्रम आयोजित किए हैं। भारतीय कला को बढावा देने के उद्देश्य से इस आर्ट गैलरी में चित्रों की बिक्री की जाती है। साथ ही यहां बेहतरीन पेंटिंग्स का संग्रह भी किया जाता है। आपको यहां जयपुर, राजस्थान और भारत के कई प्रसिद्ध चित्रकारों की पेंटिंग का अद्भुत संग्रह देखने को मिल जाएगा।

युवा कलाकारों का मंच

कलानेरी आर्ट गैलरी युवा और उत्साही चितेरों का एक मंच बनकर भी उभरी है। कई युवा कलाकारों ने यहां अपनी पेंटिंग्स के माध्यम से देश और विदेश में पहचान बनाई है। कलानेरी आर्ट गैलरी ऐसे युवाओं का न केवल सम्मान करती है बल्कि उन्हें उनकी पेंटिंग की सही कीमत भी दिलाती है और आने वाले वक्त में उनकी एग्जीबीशन लगाकर उन्हें प्रमोट भी करती है। अपनी कलात्मक खोज और सौंदर्य उपासक छवि के चलते आर्ट गैलरी ने सर्वश्रेष्ठ चयन किए हैं और उन्हें संग्रहीत किया है।

संग्रह

कलानेरी आर्ट गैलरी विविध कारणों और जरूरतों के आधार पर बेहतर पेंटिंग्स का संग्रहण करती है। कला का क्षेत्र काफी विस्तृत है और उसके सही मूल्य का आंकलन भी नहीं किया जा सकता। कुछ लोगों के लिए कला सिर्फ अभिव्यक्ति का माध्यम है, कुछ उनके व्यक्तित्व का आभामंडल है तो कुछ के लिए यह जीवन शैली का विस्तार है। एक पेंटिंग के मायने हर आंख अलग ढंग से पढती है। कलानेरी आर्ट गैलरी इसके बावजूद पूरी निष्ठा और ईमानदारी से अच्छे कार्यों को उनका बेहतर मूल्य देती है। यहां बाजारों की निर्मम खरीद खरोख्त से इतर कला का सम्मान और बेहतर परिणाम दिया जाता है। दूसरी ओर पेंटिंग खरीदने के शौकीनों को भी वास्तविक मूल्य और कला की विशेषता समझाने के बाद सुपुर्द किया जाता है। साथ ही कला से संबधित उनके सवालों का सही समाधान भी किया जाता है।

कलानेरी आर्ट गैलरी समय समय पर युवाओं के लिए वर्कशॉप का भी इंतजाम करती है और कला की बारीकियों से अवगत कराने के लिए नामचीन हस्तियों को आमंत्रित किया जाता है। कलानेरी आर्ट गैलरी में कला से संबंधित कई अच्छे कार्यक्रम भी होते हैं। यहां चित्रकार और खरीदार के बीच एक अच्छा सौहार्द्रपूर्ण वातावरण भी तैयार किया जाता है और पारदर्शिता के आधार पर कार्य किया जाता है। यही कारण है कि इतने कम समय में आर्ट गैलरी ने दुर्लभ से दुर्लभतम चित्रों का संकलन भी किया है। समय समय पर आर्ट गैलरी कला मेलों का आयोजन भी करती है और देश के प्रमुख कला मेलों में भाग भी लेती है।

One thought on “कलानेरी आर्ट गैलरी

  1. कलानेरी आर्ट गैलरी में एग्जीबीशन

    जयपुर शहर में सोमवार को कलानेरी आर्ट गैलरी में करीब 90 डॉक्यूमेंट और फोटोग्राफी का संग्रह प्रदर्शित किया गया। यहां इंडिया फाउंडेशन फार आर्ट बेंगलुरू द्वारा दी गई ग्रांट के तहत एक साल के रिसर्च वर्क और कलाकारों से बातचीत को कलात्मक रूप से डिस्प्ले किया गया है। कार्यक्रम में इंडियन इंस्टीट्यूट आफ क्राफ्ट एंड डिजाइन की प्रोफेसर खुशबू भारती ने इस अवसर पर कहा कि शहर में सार्वजनिक स्थानों, मॉल और फ्लाईओवर्स पर होने वाले आर्ट वर्क को सुंदर होने के साथ साथ सामाजिक संदेशों से युक्त भी होना चाहिए। प्रदर्शनी में लगे चित्रों व तस्वीरों के जरिए सार्वजनिक स्थानों पर किए जाने वाले आर्ट के साथ साथ आर्ट वर्क के प्रकार के बारे में बताया गया। प्रदर्शनी में फोटोग्राफ और डॉक्यूमेंट पर आधारित कलाकृतियां प्रदर्शित की गई हैं। खुशबू ने जयपुर के सेंट्रल पार्क, फ्लाई ओवर और गांधीनगर रेल्वे स्टेशन पर बनाई गई कलात्मक पेंटिंग्स और आर्ट के लांग शॉट्स को दिखाया है। इन तस्वीरों में कहीं कहीं व्यंग्यात्मक शैली को भी अपनाया है। इसमें राजस्थान के क्षेत्रों के अलावा दिल्ली के कलाकारों द्वारा बनाया गया आर्ट भी प्रदर्शित किया गया है।

    Like

Comments are closed.