मणिपाल विष्वविद्यालय जयपुर में एसवी-टीडीएफएस 2018 का शुभारंभ

SV-TDFS 2018

SV-TDFS 2018मणिपाल विष्वविद्यालय जयपुर के तत्वावधान में आयोजित इन्टरनेषनल कांफ्रेस ऑन स्टार्टअप वेंचर्स-टेक्नोलॉजीकल डवलपमेंट्स एंड फ्यूचर स्ट्रेटजीज 2018 – एसवी-टीडीएफएस 2018 का उद्घाटन डीन एकेडेमिक्स, आईआईटी, दिल्ली, प्रो. भीम सिंह, एमयूजे के प्रेसिडेंट, प्रो. जी. के. प्रभु, चीफ साईन्टीस्ट, सीएसआईआर,-सीईईआरआई पिलानी, प्रो. जमील अख्तर, सीनियर प्रिंसिपल साईन्टीस्ट, सीएसआईआर- सीईईआरआई, पिलानी, प्रो. अजय अग्रवाल, डीन, फेकल्टी ऑफ इंजिनियरिंग, प्रो. जगन्नाथ के., डीन, रिसर्च एंड इनोवेषन, प्रो. एच. रविषंकर कामत, डायरेक्टर, एसईईसी, प्रो. एस. एन. सरन ने दीप प्रज्ज्वलन कर किया।

इस अवसर पर प्रो. भीम सिंह ने समस्त प्रतिभागियों को अपने तकनीकी कौषल एवं अपने उद्योगधर्मिता का उपयोग भारत भूमि के जनसाधारण के समस्याओं के निराकरण के लिए करने के लिए कहा। प्रेसिडेंट, प्रो. जी. के प्रभु ने प्रतिभागियों से विष्वविद्यालय में स्थापित अटल इनक्यूबेषन केंद्र का भरपूर लाभ उठाने का आह्वान किया । साथ ही कल्पनाषीलता एंव नए इनोवेषन को गम्भीरता से लेने को कहा।

SV-TDFS 2018प्रो. जमील अख्तर ने रिसर्च एवं डवलपमेंट के व्यवसायीकरण एवं इसके महत्व पर प्रकाष डाला। प्रो. जगन्नाथ ने प्रोद्योगिकी षिक्षण में शोध, इनोवेषन, समाजोपयोगिकता के सामन्जस्य पर बल दिया। सभी वक्ताओं ने कार्यक्रम के आयोजनकर्ता डॉ. आषीष श्रीवास्तव, डॉ. हिमांषु चौधरी, डॉ. कुलवंत सिंह एवं उनकी टीम की प्रषंसा की। कार्यक्रम के आरंभ में अतिथियों का सवागत बुके देकर किया गया एवं स्मृति चिन्ह देकर आभार जताया। प्रो. एस. एन. सरन ने सभी को धन्यवाद दिया। इस दो दिवसीय कांफ्रेस में 7 तकनीकी सत्र आयोजित किए जा रहे है। इनमें 76 शोधार्थी अपने शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। कांफ्रेस में देष एवं विदेष से कुल 250 प्रतिनिधि भाग ले रहे है।

डॉ. रमेष कुमार रावत
एसोसिएट प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ जर्नलिज्म एंड मॉस कम्यूनिकेषन
मणिपाल विष्वविद्यालय जयपुर
Advertisements