रोटरी नेशन बिल्डिंग अवॉर्ड से नवाजे गए 80 गवर्नमेंट टीचर्स

रोटरी नेशन बिल्डिंग अवॉर्ड से नवाजे गए 80 गवर्नमेंट टीचर्स
रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन ने शुरू की अभिनव पहल
राजस्थान में स्कूली शिक्षा का माहौल बदला- सुरेश चंद्र

जयपुर, 24 सितम्बर।

रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन की ओर से आज 80 गवर्नमेंट स्कूल्स के टीचर्स को उनके विशिष्ट योगदान के लिए नेशन बिल्डिंग अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। जयपुर के वैशाली नगर स्थित एक होटल में प्रातः 10 बजे आयोजित इस कार्यक्रम में प्राइमरी, सेकंडरी और हायर सेकंडरी लेवल की एजुकेशन से जुड़े हुए शिक्षक शामिल हुए। रोटरी इंटरनेशनल लिटरेसी मिशन के अंतर्गत आयोजित इस कार्यक्रम में जयपुर, प्रतापगढ़ और चूरू जिलों के शिक्षकों को सम्मानित किया गया, जिसमें करीब पचास फीसद महिलाओं की भागीदारी भी रही।

राउंड टाउन के अध्यक्ष राजेश शर्मा ने कार्यक्रम के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए बताया कि सरकार के अलावा गवर्नमेंट स्कूल्स में कार्यरत शिक्षकों को गैर सरकारी मंचों पर उतना सम्मान नहीं मिल पाता, जिसके वे हक़दार हैं। उन्होंने बताया कि अकादमिक, स्पोर्ट्स, म्यूजिक, डांस और फिज़िकल ट्रेनिंग जैसी कई श्रेणियों में आउटस्टैंडिंग रिकॉर्ड वाले टीचर्स को पब्लिक ऑनर देना समाज का दायित्व है। उन्होंने जानकारी दी कि पूरी पारदर्शिता के साथ इन टीचर्स का चयन निर्धारित मानकों के साथ स्कूल्स के स्टूडेंट्स ने किया है जो नई पहल है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा परिषद् के एडिशनल डायरेक्टर सुरेश चंद्र ने कहा कि राजस्थान स्कूली शिक्षा के मामले में बड़े बदलावों के दौर से गुजर रहा है।सरकारी स्कूलों के इंफ्रास्ट्रक्चर की बदलती सूरत उम्मीद जगाने वाली है। उन्होंने बताया कि 2011 के आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश में 295 एजुकेशनल बैकवर्ड ब्लॉक्स थे, लेकिन आज 186 ब्लॉक्स में 100 छात्राओं की क्षमता के हॉस्टल्स बनाए गए हैं जिनकी वजह से बालिका शिक्षा में क्रांतिकारी परिवर्तन देखने को मिले। श्री चंद्र ने कहा कि 7 करोड़ रुपयों की लागत से बनने वाले मॉडल स्कूल की संख्या भी 134 हो चुकी है जो केंद्रीय विद्यालयों को पीछे छोड़ रहें हैं। वहां इंग्लिश मीडियम का वातावरण बनने से नई प्रतिभाएं भी निखर रहीं हैं जो नवोदय विद्यालयों की बराबरी कर रहीं हैं। उन्होंने देश को पोलियो-मुक्त बनाने में रोटरी इंडिया की भरपूर प्रशंसा की तथा धर्म, शिक्षा और चिकित्सा इन तीन प्रकार के दान-पुण्यों में शिक्षा में सर्वाधिक सहयोग देने की अपील भी की।

कार्यक्रम में राजस्थान कॉउन्सिल ऑफ एलीमेंट्री एजुकेशन (आरसीईई) के हाईजीन ऑफिसर गिरीश भारद्धाज और रोटरी इंटरनेशनल के डिस्ट्रिक्ट-3054 के टीचर्स सपोर्ट इनिशिएटिव के को-चेयरपर्सन राकेश कुमार गुप्ता ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर राउंड टाउन की फर्स्ट लेडी श्रीमती जया शर्मा, रोटेरियन आलोक अग्रवाल, पराग रूंगटा, रूपेश चंदेल, कमल सामोदिया, विनोद गुप्ता, गजानंद अग्रवाल, शरद मोदी, गोपालदास गुप्ता, विवेक जागवायन, निर्मल बाहेती, शशिकांत मूंधड़ा और दूदू क्लब के एडवोकेट सुरेंद्र शर्मा भी उपस्थित थे। क्लब के सचिव अभिषेक जयपुरिया ने धन्यवाद ज्ञापन किया। कार्यक्रम का संचालन सालेहा गाजी ने किया। ​

डॉ. संजय मिश्रा
मीडिया प्रभारी
रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन

अग्रवाल कॉलेज कैंपस में होगी बेटी बचाओ की शपथ

श्री अग्रसेन जयंती पर विशाल शोभायात्रा कल हाथी-घोड़ों, पालकी और 31 झांकियों से सजी ये शोभायात्रा होगी दर्शनीय  नामी-गिरामी बैंड, आतिशबाजी और अखाड़ों का होगा प्रदर्शन ड्रेस कोड में हज़ारों अग्र बंधु होंगे आकर्षण का केंद्र अग्रवाल समाज के करीब 25 हजार लोग होंगे शामिल अग्रवाल कॉलेज कैंपस में होगी बेटी बचाओ की शपथ  

जयपुर, 20 सितम्बर। 

श्री अग्रसेन जयंती पर विशाल शोभायात्रा कल गुरुवार 21 सितम्बर को सभी के लिए आकर्षण का केंद्र होगी। श्री अग्रवाल समाज समिति के अध्यक्ष चंद्रप्रकाशभाड़ावाला ने बताया कि समाज में उत्साह की लहर है, और इसी कारण शोभायात्रा में भाग लेने वाले लोगों की संख्या 25 हजार तक पहुँच सकती है। उन्होंने कहा कि न केवल संख्या के लिहाज से, बल्कि हर मामले में ये इतिहास बनाने वाला आयोजन साबित होगा, क्योंकि समाज और उसकी सभी उप समितियों की 31 झांकियां इस शोभायात्रा में शामिल होगी।

शोभायात्रा के संयोजक प्रविंद्र बिंदल कहते हैं कि इस बार महिलाओं और पुरुषों के लिए ड्रेस कोड, नामी-गिरामी 4 बैंडों, आतिशबाजी और अखाड़ों का प्रदर्शन इस शोभायात्रा को और दर्शनीय बनाएंगे। हाथी-घोड़ों, पालकी और विभिन्न झांकियों के साथ मुख्य रथ में अग्रसेन जी और उनके आगे उनके 18 पुत्र घोड़ों पर सवार होकर चलेंगे। तो वहीँ पूरे रास्ते एनसीसी कैडेट्स और स्काउट्स गाइड भी क़दमों को मिलाते हुए चलेंगे।

प्रभारी उपाध्यक्ष सुनील मित्तल ने जानकारी दी कि श्री अग्रसेन जयंती विशाल शोभायात्रा सायं 4 बजे श्री अग्रवाल सेवा सदन, चांदपोल बाजार से रवाना होकर छोटीचौपड़, त्रिपोलिया बाजार, जौहरी बाजार और सांगानेरी गेट से होते हुए अग्रवाल कॉलेज, आगरा रोड पहुंचेगी। इस शोभायात्रा का शुभारम्भ राजस्थान सरकार केचिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ भगवान् अग्रसेन की आरती उतारकर करेंगे। शोभायात्रा का स्वागत करने प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी सहित बड़ी संख्या में सामाजिक-राजनीतिक हस्तियां अग्रसेन जी की आरती उतारेंगी।

समिति के महामंत्री जगदीश नारायण ताड़ी के मुताबिक शोभायात्रा के अग्रवाल कॉलेज कैंपस में पहुँचने पर समाज के समस्त लोगों को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं की शपथ दिलाई जाएगी और साथ ही समाज में व्याप्त कुछ बुराइयों को ख़त्म करने और समाज के वंचित और पिछड़े लोगों के लिए करणीय कार्यों के लिए संकल्प भी कराया जायेगा।

डॉ. संजय मिश्रा

मीडिया कोऑर्डिनेटर- श्री अग्रसेन जयंती महोत्सव-2017

98295 58069

श्री अग्रसेन जयंती पर विशाल शोभायात्रा

श्री अग्रसेन जयंती पर विशाल शोभायात्रा 21 को

मुख्यमंत्री और समग्र समाजों के विशिष्ट जन होंगे शामिल 15 हजार अग्र बंधु लेंगे बेटी बचाओ की शपथ

जयपुर, 19 सितम्बर।

Agarsen Jayantiअग्रवाल समाज समिति की ओर से श्री अग्रसेन जयंती पर विशाल शोभायात्रा गुरुवार 21 सितम्बर को निकाली जाएगी, जो अग्रवाल समाज के इतिहास में अद्भुत शोभायात्रा साबित होगी। ये कहना है समिति के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश भाड़ावाला का। वे 19 सितम्बर को जयपुर के अग्रवाल कॉलेज परिसर में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि शोभायात्रा को सफल बनाने के लिए समाज की सभी उप समितियों ने एकता का परिचय दिया और सामूहिक प्रयासों से ये जयंती महोत्सवमनाया जा रहा है। उन्होंने 17 सितम्बर को आयोजित अग्रचेतना मैराथन का उदाहरण दिया जिसमें समाज की एकजुटता सभी को देखने को मिली। इस बार महिलाओं और पुरुषों के लिए ड्रेस कोड भी निर्धारित किया गया है जो इस शोभायात्रा का बड़ा आकर्षण होगा।

श्री अग्रसेन जयंती विशाल शोभायात्रा सायं 4 बजे श्री अग्रवाल सेवा सदन, चांदपोल बाजार से रवाना होकर छोटी चौपड़, त्रिपोलिया बाजार, जौहरी बाजार और सांगानेरी गेट से होते हुए अग्रवाल कॉलेज, आगरा रोड पहुंचेगी। इस शोभायात्रा का शुभारम्भराजस्थान सरकार के चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ भगवान् अग्रसेन की आरती उतारकर करेंगे। शोभायात्रा के खंडेलवाल धर्मशाला पर पहुंचने पर पूर्व महापौर मनीष पारीक, विधायक सुरेंद्र पारीक, पूर्व महापौर ज्योति खंडेलवाल, महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा, फाइनेंस कमीशन की सदस्य ज्योति किरण, गिरिराज अग्रवाल, एसएमएस कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफ़ेसर यूएस अग्रवाल भी अग्रसेन जी की आरती करेंगे।

दीनानाथ जी की गली पर विधायक मोहनलाल गुप्ता, दीनानाथ ड्राई फ्रूट्स व्यापार मंडल और चांदपोल व्यापार मंडल के पीएल अग्रवाल आरती उतारेंगे। इसी तरह त्रिपोलिया गेट पर विधायक दिया कुमारी, गणेश राणा, मुकुंद गोयल आरती में शामिलहोंगे। हनुमान का रास्ता के सामने अशोक गुप्ता, कांग्रेस शहर अध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास, पूर्व शिक्षा मंत्री बृज किशोर शर्मा, डॉ. मंगल भी भगवान् अग्रसेन की आरती करेंगे। बड़ी चौपड़ अग्रसेन मार्केट पर प्रदेश की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एवं भाजपा प्रदेशअध्यक्ष अशोक परनामी, शहर भाजपा अध्यक्ष संजय जैन के साथ जौहरी बाजार व्यापार मंडल के गणमान्य जन भव्य आरती करेंगे।

इसके पश्चात शोभायात्रा हल्दियों का रास्ता पहुंचेगी जहां जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा,
उप महापौर मनोज भारद्धाज, देवस्थान विभाग से एसडी शर्मा और एसएस अग्रवाल आरती उतारेंगे। एलएमबी के सामने सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रीअरुण चतुर्वेदी, अग्रसेन नवयुवक मंडल सहित जैन, ओसवाल, माहेश्वरी, खंडेलवाल, विजयवर्गीय आदि प्रमुख समाजों के अध्यक्ष भगवान अग्रसेन जी की आरती करेंगे। मोती सिंह भोमियों के रास्ते पर वैश्य समाज के प्रमुख लोग आरती उतारेंगे। सांगानेरीगेट के पास रामधन जी अतार की दुकान पर जयपुर महानगर की सभी उपनगरीय समितियों के अध्यक्ष, महामंत्री और पदाधिकारी आरती में सम्मिलित होंगे। अंत में अग्रवाल समाज समिति और अग्रवाल शिक्षा समिति के लोग आरती करेंगे।

महामंत्री जगदीश नारायण ताडी ने बताया कि शोभायात्रा के बाद समाज बंधुओं को नए संकल्प कराएं जाएंगे, जिसमें प्रत्येक महीने के प्रथम रविवार को 200 गरीब परिवारों को एक महीने के राशन वितरण की व्यवस्था को बढाकर 1000 परिवारों तककरना, अग्रवाल कॉलेज में पढ़ने वाली समाज की बेटियों की फीस आधी करना, विधवा सहायता कोष को 500 महिलाओं के लिए बढ़ाना, मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रोत्साहन और आर्थिक सहायता देने के साथ आर्थिक रूप से कमजोर और गरीब युवतियों केसामूहिक विवाह की जिम्मेदारी लेना भी शामिल है. इसके साथ ही शादी-विवाह में सड़कों पर नाच-गाना बंद किया जाएगा। फिजूलखर्ची को कम करने के लिए अधिकतम 18 व्यंजनों का प्रावधान रखने पर भी सहमति बनी है।

मुख्य संयोजक रामावतार गोयल ने जानकारी दी कि 23 सितम्बर को अग्रसेन डांडिया-2017, 24 सितम्बर को खेलकूद प्रतियोगिता और 25 सितम्बर को अग्रवाल महिला सम्मेलन आयोजित किया जायेगा जिसमें विभिन्न प्रतियोगिताएं और नृत्य नाटिकाकी प्रस्तुति सम्मिलित हैं. 27 सितम्बर को आयोजित समापन समारोह में अग्र समाज की युवा प्रतिभाओं और विशिष्ट व्यक्तित्वों का सम्मान किया जायेगा। प्रभारी उपाध्यक्ष सुनील मित्तल ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

डॉ. संजय मिश्रा
मीडिया कोऑर्डिनेटर- श्री अग्रसेन जयंती महोत्सव-2017
98295 58069

ऐतिहासिक अग्रचेतना मैराथन

समाज की शक्ति को राष्ट्र विकास में लगाएं – कालीचरण

(ऐतिहासिक अग्रचेतना मैराथन में उमड़ा अग्रवाल समाज)

जयपुर, 17 सितंबर।

श्री अग्रसेन जयंती महोत्सव के अंतर्गत आयोजित अग्रचेतना मैराथन में आज अग्रवाल समाज ने बड़ी संख्या में शिरकत कर एकजुटता का परिचय दिया। मैराथन को चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ, आईएएस विनोद अजमेरा और बॉलीवुड से सिंगर रविंद्र उपाध्याय, अभिनेता शादाब खान, मुकेश ऋषि और अभिनेत्री संजीता मुखर्जी तथा मानसी जैन ने हवा में गुब्बारे उड़ाकर रवाना किया जिसमें दस हज़ार से अधिक अग्र बंधु, महिलाओं और युवाओं ने उत्साहपूर्वक भाग लिया।
इस अवसर पर चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा कि अग्र समाज अपनी सामूहिक शक्ति को राष्ट्र विकास में लगाएं। उन्होंने कहा कि देश और समाज के लिए अग्र बंधुओं ने हमेशा ही अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किये है।

अग्रचेतना मैराथन

ये मैराथन प्रातः 7 बजे अलबर्ट हॉल, रामनिवास बाग़ से प्रारम्भ होकर न्यू गेट और सांगानेरी गेट होते हुए अग्रवाल कॉलेज परिसर में संपन्न हुई। इस अवसर पर जाने-माने समाजसेवी राजू मंगोड़ीवाला, रामावतार सिंघल, कमल लश्करी, रमेश डेरेवाला, आनंद गुप्ता, राधेश्याम गुप्ता सहित बहुत सारे नामी-गिरामी अग्रवाल समाज के लोग इस रोड शो का हिस्सा बने. अग्रवाल समाज समिति के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश भाड़ेवाला और महामंत्री जगदीश नारायण ताडी आयोजन में शामिल बड़ी उम्र के बंधुओं का स्वागत और उत्साहवर्धन करते नज़र आये.
मैराथन के संयोजक पवन गोयल (होटल सफारी) और नीरज अग्रवाल ने मैराथन रैली को उम्मीद से ज्यादा सफल और उद्देश्यपरक बताया। मैराथन के बाद अग्रवाल कॉलेज प्रांगण में चित्रकला, रंगोली और मेहंदी प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं जिनके पुरस्कार 27 सितम्बर को समापन समारोह में वितरित किये जायेंगे।

डॉ. संजय मिश्रा
मीडिया कोऑर्डिनेटर- श्री अग्रसेन जयंती महोत्सव-2017
98295 58069

विकास पत्रकारिता पर मीडिया विधार्थियों के लिये क्षमतावर्धन हेतु आवासीय कार्यशाला

जयपुर 14 तारीख। भारतीय जन संचार संस्थान के निदेशक के.जी. सुरेश ने विकास पत्रकारिता को एक आंदोलन के रूप में बदलने की आवश्यकता महसूत की है। सुरेश गुरूवार को राजस्थान विश्वविद्यालय के जन संचार केन्द्र व यूनिसेफ – राजस्थान की और से मीडिया में विद्यार्थियों के लिए आयोजित 7 दिवसीय कार्यशाला के समापन सत्र को सम्बोधित करते हुए सुरेश ने कहा कि विकास पत्रकार को बे-आवाजों की आवाज बनना होगा उनका कहना है कि विकास पत्रकार के लिए जमीनी समाचारों को जानना आवश्यक है तथा वह संवेदनशिलता के साथ रिपोर्टिंग करते रहे।

वरिष्ठ पत्रकार रूबिन बनर्जी ने कहा कि आज पत्रकारिता के सामने विश्वसनियता का संकट है इस विश्वसनियता को बचाने के लिए आवश्यक है सम्पादकीय संस्था को मजबूत बनाना। आज सम्पादकीय संस्था की कडी निगरानी ही समाज में पत्रकारिता की प्रतिष्ठा को बचा सकती है उन्होंने कहा कि कामचोर सम्पादकीय संस्था में समाचार पत्र की गुणवत्ता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। उन्होंने पत्रकारिता के व्यवसायिक दौर में बढती टी.आर.पी. की दौड व सनसनी पूर्ण रिपोर्टिंग पर चिंता प्रकट की।

पत्रकार एल.पी. पंथ ने कहा कि पत्रकारिता में विज्ञान की तरह कोई फार्मुला नहीं है उन्होंने कहा कि पत्रकार के सामने और चुनौतियां है लेकिन हर दिन ‘‘सांस्कृतिक थकावट’’ के दौर से गुजर रहें है उसमें पत्रकार पर यह दायित्व है कि वह आम आदमी के सपने को बचाने के लिए प्रयत्न करें।

पत्रकार महेश शर्मा ने कहा कि विकास पत्रकारिता सरकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार उचित आंकडों का उल्लेख मात्र नहीं है। विकास पत्रकारिता एक गंभीर विधा है जहां पत्रकार को जागरूक रहते हुये शोध अनुसंधान पर आधारित रिपोर्टिंग को प्राथमिकता दी जाती है उन्होंने पत्रकारिता को सेवाभाव से जुडा व्यवसाय बताया।

पत्रकार राकेश गोस्वामी ने विकास पत्रकारिता पर केन्द्रीत ऐसी कार्यशालाओं को उपयोगी बताते हुये सक्रिय पत्रकारों के लिए ऐसे प्रशिक्षण उनमें कौशल समता को विकसित करते है।

यूनिसेफ राजस्थान की यूनिसेफ विशेषज्ञ सुचोरिता बर्धन ने पत्रकारों से यह आग्रह किया की वे विकास संबंधी खबरों को प्राथमिकता से प्रकाशित करने में विशेष प्रयत्न करें। जन संचार केन्द्र के अध्यक्ष प्रोफेसर संजीव भानावत ने सात दिवसीय कार्यशाला की गतिविधियों की रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए बताया कि शीघ्र ही मीडिया शिक्षकों के लिए चौदह दिवसीय कार्यशाला आयोजित की जायेगी। प्रोजेक्ट सचिव कल्याण सिंह कोठारी ने आभार प्रकट किया इस दौरान कार्यशाला की गतिविधियों पर केन्द्रीत एक लघु फिल्म भी प्रदर्शित की गई।

संजीव भानावत

अध्यक्ष जन संचार केन्द्र, राजस्थान विश्व विद्यालय, जयपुर।

सडक हादसों की रोकथाम के लिए प्राथमिकता से काम करने का आग्रह

जयपुर, 12 सितंबर, 2017.

  • मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक-2017 में जोड़े 88 नए प्रावधान, 25 से अधिक प्रावधान सडक सुरक्षा से संबंधित
  • सडक सुरक्षा से जुड़े मसलों पर सांसदों ने किया मीडिया प्रतिनिधियों के साथ विचार-विमर्श
  • सडक हादसों के मामले में राजस्थान देश में पांचवें स्थान पर।
  • वर्ष 2016 में राजस्थान में 10,456 लोगों ने सडक हादसों में जान गंवाई, जबकि 24, 103 लोग घायल हुए।
  • दुनियाभर में हर साल सडक हादसों में मरते हैं 12 लाख से अधिक लोग।

सांसद हरीशचंद्र मीणा और राहुल कस्वां ने देश में तेजी से बढ़ती सडक दुर्घटनाओं पर गंभीर चिंता जताते हुए सरकारी संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, मीडिया और आम लोगों से आग्रह किया है कि वे इस मसले को प्राथमिकता से लेते हुए दुर्घटनाओं की रोकथाम की दिशा में सामूहिक प्रयास करें।

सडक सुरक्षा के मुद्दे पर जागरूकता फैलाने और सडक परिवहन और सुरक्षा विधेयक को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए कट्स इंटरनेशनल (कंज्यूमर यूनिटी एंड ट्रस्ट सोसाइटी) की तरफ से मंगलवार, 12 सितंबर को राजधानी जयपुर में आयोजित सांसदों और मीडिया प्रतिनिधियों के बीच विचार-विमर्श सत्र के दौरान उन्होंने यह आग्रह किया।

विचार-विमर्श सत्र के दौरान सांसद हरीशचंद्र मीणा ने कहा कि पूरी दुनिया में युद्ध और आतंकवाद से जुड़ी घटनाओं के दौरान भी इतने लोगों को जान नहीं गंवानी पड़ी है, जितने लोगों ने सडक हादसों में अपनी जान गंवाई है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन दशकों के दौरान सडक सुरक्षा का परिदृश्य पूरी तरह बदल गया है। हालांकि देश में पंजीकृत वाहनों की संख्या बहुत अधिक नहीं है, लेकिन सडक दुर्घटनाओं के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सडक सुरक्षा का मुद्दा हम सबके लिए प्राथमिकता में होना चाहिए और इस दिशा में लोगों को भी अपना दायित्व समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि गांवों और छोटे कस्बों के लोग सडक हादसों के सबसे ज्यादा शिकार होते हैं, लिहाजा इन्हें सडक सुरक्षा के प्रति अधिक शिक्षित और जागरूक करने की जरूरत है।

सांसद राहुल कस्वां ने विचार-विमर्श सत्र में हिस्सा लेते हुए लोगों को सडक सुरक्षा के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता बताई और कहा कि सडक सुरक्षा के लिए सबको मिलजुल कर प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि सडक सुरक्षा संबंधी कार्यों के लिए अक्सर बजट की कमी रहती है, लिहाजा इस कमी को दूर करने के लिए जरूरी है कि चालान इत्यादि से एकत्र होने वाली रकम सडक सुरक्षा संबंधी कार्यों पर खर्च की जाए। उन्होंने देश में अधिक संख्या में ड्राइविंग इंस्टीट्यूट खोलने की जरूरत बताते हुए कहा कि सडक हादसों में कमी लाने के लिए जरूरी है कि ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने के काम में सख्ती बरती जाए। साथ ही, पहले से लाइसेंस हासिल कर चुके चालकों को बेहतर प्रशिक्षण भी दिया जाए। सांसद कस्वां ने सडक सुरक्षा को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने का सुझाव भी दिया और मीडिया से भी इस दिशा में अपनी सार्थक भूमिका निभाने का आग्रह किया।

कट्स इंटरनेशनल के डायरेक्टर जॉर्ज चेरियन ने इस दौरान मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक-2017 की विस्तार से जानकारी दी और बताया कि लोकसभा द्वारा पारित इस विधेयक में 88 नए प्रावधान जोड़े गए हैं और इनमें से 25 से अधिक प्रावधान सडक सुरक्षा से संबंधित हैं। उन्होंने बताया कि नए विधेयक में ड्राइविंग लाइसेंस के लिए एक नेशनल रजिस्टर बनाने का प्रावधान है। विधेयक में ड्राइविंग लाइसेंस की प्रक्रिया को पूरी तरह ऑटोमेटिक बनाने का प्रावधान किया गया है, हालांकि राज्यों ने इस काम के लिए और अधिक समय देने का आग्रह केंद्र सरकार से किया है। डायरेक्टर जॉर्ज चेरियन ने बताया कि मीडिया प्रतिनिधियों के साथ विचार-विमर्श का उद्देश्य वर्तमान सडक सुरक्षा विधेयक, 2017 के बारे में चर्चा करने के साथ इस बारे में संसदीय स्थायी समिति (पीएससी) से जुड़े सांसदों के अनुभवों को सामने लाना है।

उन्होंने बताया कि दुनियाभर में हर साल सडक हादसों में 12 लाख से अधिक लोग अपनी जान गंवा देते हैं। इनमें से आधी मौतें असुरक्षित तरीके से सडक पर चलने के कारण होती हैं और इनमें ज्यादातर मोटरसाइकिल सवार, साइकिल सवार और पैदल चलने वाले लोग शामिल हैं। ग्लोबल हैल्थ ऑब्जर्वेटरी (जीएचओ) के आंकड़े बताते हैं कि उच्च आय वाले देशों के मुकाबले कम और मध्यम आय वाले देशों में सडक दुर्घटनाओं की तस्वीर बहुत भयावह है। उच्च आय वाले देशों में प्रति एक लाख की आबादी पर सडक दुर्घटना मृत्यु दर 9.2 है, जबकि कम और मध्यम आय वाले देशों में यह दर 24.1 और 18.4 है।

कट्स इंटरनेशनल के सीनियर प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर मधुसूदन शर्मा और ग्लोबल हैल्थ एडवोकेसी इनक्यूबेटर, नई दिल्ली के कंसल्टेंट नलिन सिन्हा ने भी विचार-विमर्श सत्र में हिस्सा लिया। उन्होंने बताया कि सडक हादसों के मामले में राजस्थान देश में पांचवें स्थान पर है। वर्ष 2016 में यहां 10, 456 लोगों ने सडक हादसों में जान गंवाई जबकि 24, 103 लोग घायल हुए। देशभर का आंकड़ा देखें, तो पिछले साल कुल 1,50,785 लोग सडक हादसों के कारण मौत का शिकार बने, जबकि इस दौरान 4,94,624 लोग हादसों में जख्मी हुए। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2014 में सडक हादसों में 1,41,526 लोगों की मौत हुई और 4,77,731 लोग घायल हुए (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो-2015)। ये आंकड़े भी संभवतः आधे-अधूरे हैं, क्योंकि सडक दुर्घटना से जुड़े सारे मामले पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज नहीं होते। पिछले दो दशकों के दौरान हमारे देश में हालात और खराब हुए हैं और सडक दुर्घटनाओं के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इसका एक कारण सडक पर वाहनों की संख्या में वृद्धि भी हो सकता है, लेकिन मुख्य रूप से इस समस्या को नियंत्रित करने के लिए समन्वित साक्ष्य-आधारित नीति की कमी के कारण भी ऐसा हो सकता है।

देश में वर्ष 2015 में सडक दुर्घटनाओं की कुल संख्या 501,423 दर्ज की गई, जो वर्ष 2014 के मुकाबले 2.5 अधिक थी। देश में सडक दुर्घटनाओं में मारे जाने वाले लोगों की संख्या में 4.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। 2015 में सडक हादसों में मरने वालों की संख्या 146,133 तक पहुंच गई, जबकि वर्ष 2014 में सडक हादसों में 139, 671 लोग मारे गए थे।

इसमें भी सर्वाधिक चिंता की बात यह है कि सडक दुघटनाओं से बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं और सडक दुर्घटना के समय वे सबसे असुरक्षित माने जाते हैं। प्रतिदिन 500 से अधिक बच्चे सडक दुर्घटनाओं में जान गंवा बैठते हैं। अर्धविकसित और विकासशील देशों में 95 प्रतिशत सडक दुर्घटनाओं में सर्वाधिक मौतें बच्चों की होती हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (2013) के अनुसार प्रतिदिन 14 वर्ष से कम आयु के 20 बच्चे भारत में सडक दुर्घटनाओं के कारण दम तोड़ देते हैं। वर्ष 2013 में भारत में मोटर वाहन दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मृत्यु में बच्चों की मौत का भाग 6.1 प्रतिशत है। इस स्थिति के लिए वर्तमान सडक सुरक्षा कानून की खामियां भी जिम्मेदार हैं। भारत में सभी दोपहिया वाहन चालकों और वयस्क यात्रियों के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य किया गया है, पर बच्चों के लिए ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। चैपहिया वाहनों में सीट बैल्ट को वयस्कों के लिहाज से डिजाइन किया गया है, जबकि सीट बैल्ट के प्रयोग से 80 प्रतिशत गंभीर चोटों से बच्चों को सुरक्षित किया जा सकता है।

गौरतलब है कि कट्स इंटरनेशनल (कंज्यूमर यूनिटी एंड ट्रस्ट सोसाइटी) सडक सुरक्षा के मुद्दों पर दो दशकों से अधिक समय से काम कर रहा है। 2005 के बाद से कट्स ‘पार्लियामेंटेरियन्स फोरम ऑन इकॉनोमिक पॉलिसी इश्यूज’ के माध्यम से सांसदों के साथ मिलकर काम कर रहा है। सडक सुरक्षा के मुद्दे पर फोरम की एक विशेष बैठक 16 नवंबर 2016 को नई दिल्ली में आयोजित की गई थी, जिसमें पार्टी लाइन से ऊपर उठते हुए 9 सांसदों ने हिस्सा लिया था और अपने विचार व्यक्त किए थे।

करीब एक साल पहले, सडक परिवहन और सुरक्षा विधेयक, 2015 संसद में पेश किया गया था। सडक सुरक्षा के मुद्दे से निपटने और नागरिकों की सुविधाओं में सुधार लाने के लिए, सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इसे संसदीय स्थायी समिति को भेज दिया था और राज्यों के परिवहन मंत्रियों के एक समूह का गठन किया। मंत्रियों के इस समूह ने सिफारिश की कि सडक सुरक्षा और परिवहन परिदृश्य में सुधार के लिहाज से यह जरूरी है कि सरकार वर्तमान मोटर वाहन अधिनियम में संशोधन के लिए कदम उठाए। 3 अगस्त, 2016 को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट की बैठक में इस बिल को मंजूरी दे दी गई है। परिवहन मंत्री ने 9 अगस्त 2016 को संसद में यह विधेयक पेश किया। इसके बाद इस बिल को परिवहन, पर्यटन और संस्कृति पर संसद की स्थायी समिति को भेजा गया। 4 नवंबर 2016 को अन्य हितधारकों के साथ कंज्यूमर यूनिटी एंड ट्रस्ट सोसाइटी- कट्स का प्रतिनिधिमंडल संसद की स्थायी समिति के समक्ष उपस्थित हुआ और इसने मौखिक रूप से विभिन्न सुझाव ध् सिफारिशें प्रस्तुत की। विभिन्न लोगों और संस्थाओं से मिली टिप्पणियों ध् सुझावों को शामिल करने के बाद पीएससी की रिपोर्ट 8 फरवरी को संसद को सौंपी गई थी, और लोकसभा ने बहस के बाद 10 अप्रैल, 2017 को विधेयक पारित कर दिया था। राज्यसभा में बिल आगामी शीतकालीन सत्र में पारित होने की उम्मीद है।

इसी दिशा में काम करते हुए कट्स की तरफ से इसी साल चित्तौडगढ़ में 9 मई को और 27 जून को धौलपुर में डिविजनल एडवोकेसी मीटिंग आयोजित की गई। जयपुर में 30 मार्च 2017 को रीजनल एडवोकेसी मीटिंग आयोजित की गई और इसी तरह की बैठकें केरल, गुजरात और पश्चिम बंगाल में भी बुलाई गई। और अब इसी क्रम में 12 सितंबर 2017 को जयुपर में सडक सुरक्षा पर मीडिया प्रतिनिधियों के साथ विचार-विमर्श सत्र का आयोजन किया गया। सांसद हरीशचंद्र मीणा और राहुल कस्वां के साथ बड़ी संख्या में मीडिया प्रतिनिधि भी इस सत्र में शामिल हुए।

प्रकृति से छेड़छाड़ मानवता के लिए विनाशकारी

रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन ने मनाया वन महोत्सव
(गोविंदगढ़ के धोबलाई गांव में लगे 2100 वृक्ष)

जयपुर, 13  जुलाई।

रोटरी क्लब

प्रकृति से निरंतर छेड़छाड़ अगर इसी तरह से होती रही, तो आने वाले समय में ये संपूर्ण मानवता के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है. अधिक से अधिक वृक्ष लगाकर ही हम प्रकृति का संतुलन बनाये रख सकते हैं. ये कहना है चौमू के विधायक रामलाल शर्मा का. वे आज रोटरी क्लब जयपुर राउंडटाउन की ओर से चौंमू के गोविंदगढ़ कस्बे के समीप धोबलाई गांव में वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत सघन वृक्षारोपण के मौके पर सम्बोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या और घटते संसाधनों के साथ विकास कार्यक्रमों को संचालित करना विश्वभर की सरकारों के लिए चुनौति बन गया है. साथ ही इनसान की लालची प्रवृत्ति के कारण भी इसे बहुत नुकसान पहुंचा है. दुनिया की सबसे बड़ी पंचायत यानी संयुक्त राष्ट्र संघ भी जलवायु परिवर्तनों को लेकर चिंतित है और साझा वैश्विक प्रयासों के लिए काम हो रहा है.

रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन के अध्यक्ष राजेश  शर्मा ने सामाजिक सरोकारों से जुड़ी क्लब की विविध गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर कृषि उपज मंडी अध्यक्ष दिनेश गौरा और धोबलाई के सरपंच रमेश शर्मा ने भी जन महत्व के इस कार्यक्रम की सराहना की और विश्वास व्यक्त किया कि पौधरोपण के साथ ही इनकी सार-संभाल के लिए भी क्लब पूरा दायित्व निभाएगा।

वन महोत्सव के प्रथम चरण में 2100 छायादार वृक्ष लगाए गए. वृक्षारोपण में स्थानीय लोगों ने भी उत्साह से भाग लिया। रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन के सेक्रेटरी अभिषेक जयपुरिया ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस वृक्षारोपण प्रकल्प में रोटेरियन दीपक जालान, गजानंद अग्रवाल, सुभाष आर्य और कोऑर्डिनेटर नितिन शर्मा का विशेष सहयोग रहा.

डॉ. संजय मिश्रा
मीडिया प्रभारी
रोटरी क्लब जयपुर राउंड टाउन
9829558069